Writer’s Cramp

Writers Cramp

Dr. jitendra shukla Writer's Cramp Specialist

WRITER'S CRAMP , DYSTONIA, PARKINSON

WHEN YOUR HAND REFUSES TO WRITE.

Dr. Jitendra Shukla
WRITER’S CRAMP IS NEUROLOGICAL DISEASE. IT IS TASK SPECIFIC FOCAL DYSTONIA OF THE HAND RESULTING IN TREMOR OR CRAMP/ SPASM OF HAND/FINGER OR THUMB MUSCLES DURING WRITING WORK.
PATIENT OF WRITER’S CRAMP DESCRIBE THAT DURING WRITING HAND FREEZES OR DOES NOT MOVE FREELY AND THUMB,INDEX/MIDDLE OR ANY OTHER FINGER GOES HERE AND THERE DURING WRITING WORK AFFECTING GRIP OF PEN DURING WRITING AND DESCRIBE HAND AS HAVING “A MIND OF ITS OWN”.
 
CAUSE-
MALFUNCTION OF VARIOUS AREAS OF BRAIN INCLUDING BASAL GANGLIA AND SENSORI MOTOR CORTEX.STRESS,
ANXIETY CAN WORSEN WRITER’S CRAMP.
 
TYPE-
SIMPLE WRITERS CRAMP-
SYMPTOMS APPEAR ONLY WHILE WRITING.
 
DYSTONIC WRITERS CRAMP-
SYMPTOMS APPEAR NOT ONLY WHILE WRITING BUT ALSO WHILE PERFORMING OTHER TASKS WITH THE HAND. SUCH AS USING A KNIFE,APPLYING MAKE-UP OR EATING ETC.
 
SYMPTOMS OF WRITERS CRAMP- 
 
VERY HARD OR EXCESSIVE GRIPPING OF THE PEN
 
FLEXING  OF THE WRIST
ELEVATION OF ELBOW EXTENSIONOF FINGERS
 
LACK OF MUSCLE COORDINATION IN THE HAND
CRAMPING PAIN IN THE HAND,MUSCLE FATIGUE OR WEAKNESS
 
HAND TREMOR SHAKING
&
SLIP/DROPPING OF ITEMS SUCH AS PEN,UTENSILS FROM THE HAND
CRAMP PAIN STIFFNESS FREEZING IN HAND, FORE ARM,WRIST DURING WRITING
 
WRITING BECOME DISTORTED AND UNTIDY AFTER FEW SENTENCES
 
ABNORMAL POSTURE,AUTOMATIC MOVEMENT OF FINGERS THUMB WRIST HAND DURING WRITING CAUSING DIFFICULTY IN WRITING AND GRIP
 
HAND DOES NOT MOVE FREELY DURING WRITING.
 
WRITING SPEED VERY SLOW.
 
DIFFICULTY IN SIGNATURE IN BANK,EXAMS,BEFORE STRANGERS.
 
GRIP POOR,PATIENT HOLDS PEN OR PENCIL TIGHTLY TO AVOID FALLING OR ROLLING DURING WRITING.
 
PATIENT HAS TO TAKE FREQUENT REST DURING WRITING WORK.
WRITING BECOMES IMPOSSIBLE BEFORE STRANGERS,IN
ANXIETY,ANGER,
EXCITEMENT & TREMOR IN HAND INCREASED IN CROWD,BEFORE STRANGERS,DURING ANXIETY,STRESS ETC.
 
WRITER’S CRAMP SYMPTOMS WOULD BE PRESENT AFTER FEW MONTHS IN BOTH HANDS IF LEFT HAND IS USED FOR WRITING WORK DUE TO WRITER’S CRAMP IN RIGHT HAND.
 
TREATMENT-
IMPROVEMENT STARTS IN WRITING WITHIN 02 WEEKS IN MOST PATIENTS.
 
OUR HOMOEOPATHIC MEDICINES CAN BE TAKEN WITH ALLOPATHIC MEDICINES ALSO WITH 1/2 HOUR GAP IF NECESSARY
 
 
Dr. JITENDRA SHUKLA
M.D.
HOMOEOPATHIC SECIALIST
REG.NO(U.P.)H-25455,
C.C.H.(N.DELHI)-H-1555

Exp.-22 YEARS

100% Improvement Within 21 Days With Our Medicine

SANJEEVANI HOMOEOPATHIC & NEURO-PSYCHIATRY RESEARCH CENTER

GET ONLINE VOICE/VIDEO CONSULTATION

By,

DR. JITENDRA SHUKLA 
M.D. (HOMOEOPATHY)

Whatsapp Us Now 

HELPLINES 10 AM TO 7 PM-

VISIT US -

Location

SANJEEVANI HOMOEOPATHIC & NEURO-PSYCHIATRY RESEARCH CENTRE,S-41, GOLE MARKET, BEHIND HDFC BANK NEAR JEWEL PALACE,  MAHANAGAR, LUCKNOW.PIN-226006

SANJEEVANI , SHOP NO. 209 ,2 nd FLOOR, FELIX SQUARE MALL, IBB2 ANSAL API ,ICICI BANK BUILDING, NEAR-MEDANTA HOSPITAL, SUSHANT GOLF CITY, SHAHEED PATH, LUCKNOW. PIN-226030

Dr. jitendra shukla Writer's Cramp Specialist

In English

In Hindi

80% Improvement In 20 Days

SYMPTOMS OF WRITER'S CRAMP

  • Difficulty in writing due to tremor/cramp/discomfort in hand and fore-arm.
  • Tremor Shaking Of Hand during writing/holding pen.
  • Writing becomes distored and untidy after a few sentences.
  • Abnormal posture of finger /thumb /wrist/hand during writing.
  • Difficulty in writing fast/hand freezes during writing.
  • During writing holding pen/pencil tightly to avoid falling during writing(grip poor).
  • These above symptoms get aggravated by anxiety,excitement,anger and before strangers.
Dr. jitendra shukla Writer's Cramp Specialist

Some Writer's Cramp Patients Videos

Writer's Cramp CAUSE-

MALFUNCTION OF VARIOUS AREAS OF BRAIN INCLUDING BASAL GANGLIA AND SENSORI MOTOR CORTEX.STRESS,
ANXIETY CAN WORSEN WRITER’S CRAMP.

Writer's Cramp Types -

  • SIMPLE WRITERS CRAMP- SYMPTOMS APPEAR ONLY WHILE WRITING.
  • DYSTONIC WRITERS CRAMP-SYMPTOMS APPEAR NOT ONLY WHILE WRITING BUT ALSO WHILE PERFORMING OTHER TASKS WITH THE HAND. SUCH AS USING A KNIFE,APPLYING MAKE-UP OR EATING ETC.

NOTE: 
1.Please Make a Register

  1. Write one and same paragraph daily.
  2. After Paragraph write your Name , Date,Mobile No. ,Address & Time taken during writing.

4.write date wise complaints during writing.

For Any Query :-


हिंदी में

राइटर्स क्रैम्प में क्या होता है?

राइटर्स क्रेम्प

लाइलाज नही है राइटर्स क्रेम्प बीमारी-
लक्षण-
 
लिखने में हाथ में कम्पन,दर्द,अकड़न,हाथ जाम होना।
पेन व पेन्सिल हाथ से छूटना,फिसलना।
 
लिखावट खराब,धीमी,लिखने में शब्दों का टेढ़ा- मेढ़ा,छोटी-बड़ी होना।
 
लिखने में हाथ का इधर-उधर जाना व लिखने वाले हाथ का अंगूठा,अंगुलियाँ,कलाई सामान्य से अलग व्यवहार करना जैसे अँगूठा अंदर की ओर मुड़ना, किसी उंगली का ऊपर उठना या अंदर की ओर मुड़ना,कलाई का ऊपर उठना,अंदर या बाहर जाना,पेन या पेंसिल कस कर पकड़ने से अँगुलियों व अंगूठे में दबाव का निशान पड़ना आदि।
 
लिखने पर हाथ,अंगुलियो या अंगूठे में अकड़न, दर्द,कम्पन होना आदि प्रमुख लक्षण हैं।
 
इस बीमारी में लिखने की स्पीड बहुत कम हो जाती है
 
इस बीमारी में बैंक,परीक्षा,अजनबी के सामने,तनाव,घबराहट के समय हस्ताक्षर करने व लिखने का काम लगभग असम्भव हो जाता है।
 
राइटर्स क्रेम्प रोग किसी भी उम्र में हो सकता है।
 
 
  • लिखने में हाथ में कम्पन,दर्द,अकड़न,हाथ जाम होना।
  • पेन व पेन्सिल हाथ से छूटना,फिसलना।
  • लिखावट खराब,धीमी,लिखने में शब्दों का टेढ़ा- मेढ़ा,छोटी-बड़ी होना।
  • लिखने में हाथ का इधर-उधर जाना व लिखने वाले हाथ का अंगूठा,अंगुलियाँ,कलाई सामान्य से अलग व्यवहार करना जैसे अँगूठा अंदर की ओर मुड़ना, किसी उंगली का ऊपर उठना या अंदर की ओर मुड़ना,कलाई का ऊपर उठना,अंदर या बाहर जाना,पेन या पेंसिल कस कर पकड़ने से अँगुलियों व अंगूठे में दबाव का निशान पड़ना आदि।
  • लिखने पर हाथ,अंगुलियो या अंगूठे में अकड़न, दर्द,कम्पन होना आदि प्रमुख लक्षण हैं।
  • इस बीमारी में लिखने की स्पीड बहुत कम हो जाती है
  •  इस बीमारी में बैंक,परीक्षा,अजनबी के सामने,तनाव,घबराहट के समय हस्ताक्षर करने व लिखने का काम लगभग असम्भव हो जाता है।
  • इसके अलावा रोगी के हाथ व शरीर में कम्पन भी हो सकता है।बीमारी पुरानी होने पर चिन्ता, बैचैनी,धड़कन,सिरदर्द,चक्कर,स्नायु दुर्बलता,सुन्नपन,पूरे शरीर में कम्पन,हाथ से औजार,वस्तुओं का छूटना,गिरना आदि परेशानियां भी हो सकती हैं।
Dr. jitendra shukla Writer's Cramp Specialist

राइटर्स क्रेम्प का कारण-

मस्तिष्क में गहराई में स्थित उपांग बेसल गंगलिओं(basal ganglion)का ठीक से काम न करना राइटर्स क्रेम्प का कारण है।
इस उपांग का कार्य लिखते समय शरीर के विभिन्न अंगों में लय व समन्वय बनाये रखना है।
इस बीमारी में मस्तिष्क से आने वाली सूचनाओं का सही आँकलन लिखने में काम आने वाली हाथ की मांसपेशियों नही कर पाती हैं। जिस कारण लिखते समय हाथ की मांसपेशियों विपरीत व्यवहार करती हैं व हाथ जाम हो जाता है।

लिखने के अलावा अन्य परेशानी-

कम्पन चेहरे,आँखें,गर्दन,जीभ,आदि में भी हो सकता है।इसे चिकित्सीय भाषा में फोकल डिस्टोनिया या ऑक्यूपेशनल डिस्टोनिया कहते हैं।

अन्य प्रभाव-

राइटर्स क्रेम्प रोगी अगर लिखने के लिए अपने दूसरे हाथ(अर्थात दाहिने हाथ से लिखने वाला रोगी यदि बाएं हाथ) से लेखन कार्य प्रारम्भ कर देता है,तो कुछ माह बाद उसमें(बाएं हाथ में)भी राइटर्स क्रेम्प बीमारी होने लगती है

Dr. jitendra shukla Writer's Cramp Specialist

इलाज-

राइटर्स क्रेम्प रोग का सफल इलाज संजीवनी फॉउंडेशन में दुष्प्रभाव रहित होम्योपैथिक चिकित्सा से स्पीड पोस्ट द्वारा भी उपलब्ध है।अधिकतर मरीजों को 15 दिन के अंदर लिखावट में आराम मिलना शुरू हो जाना है।रोग पुराना होने पर इलाज़ में अधिक समय लगता है। 

हमारी दवा के साथ 21 दिनों के भीतर 100% सुधार
डॉ. जितेन्द्र शुक्ला,

होम्योपैथिक राइटर्स क्रेम्प कम्पन रोग विशेषज्ञ

For Any Query


Contact

For any inquiries Call Us

+918400000666